fbpx

SGFI में कुमरेश श्रीराम का चयन: अंडर-19 शतरंज प्रतियोगिता में यूपी से एकमात्र खिलाड़ी का चयन, ICSE बोर्ड का करेंगे प्रतिनिधित्व


  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • Kanpur, Kanpur Cricket, Kanpur Hindi News, Kanpur Breaking News, Kanpur Latest News, Kanpur Today News, Kanpur Cricket, Greenpark, Cricket League, Greenpark News, Kanpur Cricket News, Cricket Tournament, Kanpur Cricket Tournament, Sports News, Sports News In Hindi, Sports News In Today, Kanpur Sports News, Shatranj, Ches, Shatranj News, Ches News, Selection Of The Only Player From UP In The Under 19 Chess Competition, Will Represent The ICSE Board

कानपुर10 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

कुमरेश श्री राम

कानपुर के रतन लालनगर निवासी कुमरेश श्रीराम स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (SGFI) के अंतर्गत दिल्ली में होने वाली शतरंज प्रतियोगिता में प्रतिभाग करेंगे। कुमरेश उत्तर प्रदेश के एकमात्र खिलाड़ी हैं जोकि आईसीएसई बोर्ड का प्रतिनिधित्व अंडर-19 स्पर्धा में करेंगे। इस प्रतियोगिता में पूरे भारतवर्ष से 600 से अधिक खिलाड़ी प्रतिभाग करने आ रहे हैं। यह प्रतियोगिता 6 जून से 10 जून तक दिल्ली में होगी। कुमरेश डॉ. विरेंद्र स्वरूप एजुकेशन सेंटर एच ब्लॉक किदवई नगर में इंटर के छात्र हैं।

ऐसे हुआ चयन
20 से 23 अगस्त के बीच अमृतसर में संपन्न हुई आईसीएसई बोर्ड की राष्ट्रीय चयन प्रतियोगिता में कुमरेश ने फाइनल राउंड में तेलंगाना के खिलाड़ी के साथ मैच ड्रा किया था, जिसके आधार पर कुमरेश को चौथा स्थान प्राप्त हुआ था। इस उपलब्धि के आधार पर इनका चयन एसजीएफआई शतरंज प्रतियोगिता के लिए किया गया है।

कुमरेश श्री राम अपने माता-पिता व बहन के साथ।

कुमरेश श्री राम अपने माता-पिता व बहन के साथ।

4 साल की उम्र से खेल रहे शतरंज
कुमरेश ने बताया कि जब मैं यूकेजी में था उस समय मेरी उम्र महज 4 वर्ष थी। तब से मैं शतरंज खेल रहा हूं। 5 वर्ष की आयु में पहली बार जिला स्तरीय शतरंज प्रतियोगिता में प्रतिभाग किया था। 2012 में जिला स्तरीय प्रतियोगिता में पहला स्वर्ण पदक जीता था, जिसके बाद से लगातार प्रतियोगिताओं में हिस्सा ले रहा हूं। 2017 में दिल्ली में हुई नेशनल चेस प्रतियोगिता में प्रतिभाग किया। 2018 में आईसीएसई बोर्ड स्कूल नेशनल चेस प्रतियोगिता में पहली बार कांस्य पदक जीता था।

दीदी को देखकर हुआ प्रोत्साहित
कुमरेश श्रीराम ने बताया कि मेरी दीदी दिव्या श्रीराम राष्ट्रीय शतरंज खिलाड़ी है, उनको देखकर के ही मैंने भी शतरंज खेलना शुरू किया था। वर्तमान में दिव्या आजमगढ़ मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस की पढ़ाई कर रही हैं। दिव्या लगभग 8 राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में प्रतिभाग कर चुकी हैं। इसके अलावा दिव्या गिटार भी बाजार लेती हैं और कुमरेश तबला बजाते है।

माता, पिता है शिक्षक
कुमरेश के पिता श्री राम शेषण अय्यर डॉ. विरेंद्र स्वरूप एजुकेशन सेंटर एच ब्लॉक किदवई नगर में फिजिक्स के शिक्षक हैं। वही मां एलेन हाउस पब्लिक स्कूल पनकी में शिक्षक हैं। कुमरेश का कहना है कि मेरे माता-पिता जितना पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित करते हैं, उतना ही खेल के लिए भी करते हैं। इसी वजह से आज मेरा चयन दिल्ली में होने वाली प्रतियोगिता के लिए हुआ है।

खबरें और भी हैं…



Source link